बुधवार, 18 नवंबर 2020

Prabhat

SEO क्या है और कैसे करते हैं ?

 SEO in hindi

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में मैं आपको SEO के बारे में बताऊंगा | आज के इस आर्टिकल में आपको इससे जुड़ी सारी जानकारी मिलेगी इस आर्टिकल में आपको पता चलेगा कि - 

-- SEO क्या है ?
-- SEO करना क्यों जरुरी है ?
-- SEO कितने प्रकार के होते हैं ?
-- SEO और SEM में क्या अंतर है ?

SEO क्या है ?

SEO की फुल फॉर्म होती हैं - Search Engine Optimization | इससे हम लोग अपनी वेबसाइट और ब्लॉग के content को इस तरीके से ऑप्टिमाइज़ करते हैं जिससे हमारी वेबसाइट और ब्लॉग का पेज सर्च इंजन में टॉप पर आ जाये | इसकी मदद से हम लोग अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को सर्च इंजन में नंबर १ पर लाते हैं |

SEO kya hai aur kaise karte hain ?


SEO करना क्यों जरुरी है ?

दोस्तों, अब बात आती हैं कि SEO ब्लॉग के लिए क्यों जरुरी हैं ? 
दोस्तों, search engine optimization ब्लॉग के लिए इसलिए जरुरी है क्यूंकि इसकी मदद से हम लोग अपने ब्लॉग और ब्लॉग पोस्ट को सर्च इंजन पर सबसे ऊपर रैंक करवा सकते हैं | अब बात आती है कि हम लोग ब्लॉग पोस्ट को रैंक क्यों करवाते हैं यह इसलिए करवाते हैं क्यूंकि आपने देखा होगा कि जब भी लोगों को किसी के बारे में जानकारी चाहिए होती है तो फिर वो उसे सर्च इंजन पर सर्च करते हैं | 

आपने देखा होगा कि ज्यादातर का सर्च इंजन के पहले पेज पर जो लिंक आते हैं उसी को ज्यादा क्लिक करते हैं | इसलिए अगर हम ये चाहते हैं कि हमारे ब्लॉग पर ज्यादा लोग आये तो फिर हमें अपने ब्लॉग को फर्स्ट पेज पर रैंक करवाना होगा | अब तो आप समझ गए होंगे कि ब्लॉग को रैंक करवाना क्यों जरुरी है और ब्लॉग को रैंक कराने के लिए हमें search engine optimization करना पड़ता है |


SEO कितने प्रकार के होते हैं ?

अगर बात करें SEO के प्रकार की तो बताना चाहूंगा कि ये मुख्यता 4 प्रकार के होते हैं -

  • On-Page SEO .
  • Off-Page SEO.
  • Technical SEO.
लेकिन वेबसाइट की रैंकिंग के लिए ये तीन बहुत जरुरी हैं | सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के लिए कुछ चीजों की आवश्यकता पड़ती है जो इस प्रकार है - 
1 - Active website एक्टिव वेबसाइट 
2 - Content rich कंटेंट रिच 
3 - Hosting speed होस्टिंग स्पीड 
4 - Social presence सोशल प्रजेंस 
5 - Domain name age 
6 - Back links बैकलिंक्स 
7 - Internal linking इंटर्नल लिंकिंग 
8 - Regular Content posting रेगुलर कंटेंट पोस्टिंग 

  • ON-Page SEO - इसमें हम लोग अपनी वेबसाइट और ब्लॉग को seo friendly तरीके से डिज़ाइन करते हैं | इसमें में हम अपने ब्लॉग या वेबसाइट को ऑप्टिमाइज़ करते हैं | इसमें हमें keyword, Content, Title, Permalink, Meta Description और  image optimization का ध्यान रखना पड़ता है |

  • OFF-Page SEO - इसमें सारा काम ब्लॉग के बहार होता है | इसमें हम लोग SEO Techniques का इस्तेमाल करते हैं पर वेबसाइट या ब्लॉग में कोई बदलाव नहीं करते हैं |  OFF-Page SEO में हमें Citation, Backlink और  social signal का ध्यान रखना पड़ता है |
 
  • Technical SEO - Technical SEO में हम लोग यूजर एक्सपीरियंस को अच्छा करने की कोशिश करते हैं |

SEO और SEM में क्या अंतर है ?

SEO - SEO की फुल फॉर्म होती है search engine optimization. ये एक प्रोसेस है जिसमे ब्लॉग या वेबसाइट को ऐसे ऑप्टिमाइज़ करते हैं जिससे कि आपका ब्लॉग या वेबसाइट के आर्टिकल्स को गूगल सर्च पर रैंक कर सकें और फ्री में ट्रैफिक ला सकें |

SEM - SEM की फुल फॉर्म होती है search engine marketing. ये एक मार्केटिंग प्रोसेस है जिससे कि आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट को सर्च इंजन पर ज्यादा विज़िबल बना सकते हैं जिससे कि ट्रैफिक आये, चाहे वह फ्री ट्रैफिक हो या paid ट्रैफिक |


Conclusion - SEO क्या है ? ( SEO in hindi )

दोस्तों अब तो आप समझ ही चुके होंगे कि search engine optimization क्या होता है ? अगर आपके पास कोई ब्लॉग या वेबसाइट है तो फिर आपको ये सीखना पड़ेगा आजकल कम्पनीज SEO एक्सपर्ट्स रखते हैं जिससे कि उस कंपनी की वेबसाइट गूगल सर्च पर रैंक करती रहे | दोस्तों अगर आप इस फील्ड में carrier बनाना चाहते हैं तो फिर आपको ये सीखना ही पड़ेगा |

ये भी पढ़ें -