Tuesday, November 12, 2019

Prabhat

Jalvayu parivartan | विनाश की कगार पर विकास

Jalvayu parivartan (Climate Change)

हेलो दोस्तों,आज हम जिस विषय पर बात करेंगे वो है विनाश की कगार पर विकास | मतलब हम दूसरे शब्दों में कहे सकते हैं जलवायु परिवर्तन | दोस्तों जैसा की हम सब जानते हैं कि दुनिया बहुत तेजी से तरक्की कर रही है मेरा मतलब है कि दुनिया बहुत तेजी से विकास कर रही है उसी विकास कि वजह से दुनिया एक खतरे की तरफ बढ़ रही है उस खतरे का नाम है जलवायु परिवर्तन जो अभी तो नजर नहीं आ रहा है पर आगे चलकर इसके बहुत खतरनाक परिणाम होंगे |


jalvayu parivartan kya hai, jalvayu parivartan ke karan aur prabhav
Jalvayu Parivartan


Jalvayu parivartan क्या होता है और किसे कहते हैं ?

जलवायु परिवर्तन को अच्छी तरह से समझने के लिए ये बात बहुत जरुरी है कि सबसे पहले हम जलवायु समझ लें कि जलवायु क्या है ? जलवायु का मतलब किसी जगह पर लम्बे समय के सामान्य मौसम से होता है | जब उस जगह के मौसम में बदलाव होता है तो उसे जलवायु परिवर्तन कहते हैं | जलवायु परिवर्तन कहीं भी हो सकता है मेरे कहने का मतलब है कि ये किसी एक जगह पर भी हो सकता है और ये पूरी दुनिया में भी हो सकता है | अभी जो जलवायु परिवर्तन की समस्या उत्पन्न हो रही है वो एक जगह की नहीं बल्कि पूरी दुनिया की है | क्योकि हमारी पूरी पृथ्वी पर जलवायु परिवर्तन हो रहा है |

Jalvayu parivartan क्यों और किस वजह से हो रहा है ?

हमारी पृथ्वी पर जो जलवायु परिवर्तन हो रहा है उसकी बहुत वजह हैं मेरा मतलब है कि उसके बहुत कारण हैं |हमारी पृथ्वी पर जलवायु परिवर्तन का जो मुख्य कारण है वो है ग्रीनहाउस गैस | वैसे तो ग्रीनहाउस गैसों का काम होता है तापमान को सामान्य बनाये रखना अगर ग्रीनहाउस गैस नहीं होंगी तो तापमान बहुत कम हो सकता है | सबसे ज्यादा दिक्कत ये है कि जैसे जैसे हमारी पृथ्वी पर विकास होता जा रहा है वैसे वैसे ग्रीनहाउस गैसें हमारी पृथ्वी पर बढ़ती जा रही हैं जिसकी वजह से हमारी पृथ्वी गरम होती जा रही है |
                                                                                                                  आज के समय में हम दिन-व-दिन तरक्की करते जा रहे हैं जिसके लिए हम नयी नयी मशीनों द्वारा नयी नयी वस्तुएं बना रहे हैं | इन मशीनों को चलाने के लिए हमे इर्धन की जरुरत होती है जब हम इस इर्धन को जलाते हैं तब ग्रीनहाउस गैस निकलती हैं | ग्रीनहाउस गैस निकलने के और भी कारण हैं जैसे कि फ्रिज, एयर कंडीशनर आदि | इन सबसे हमारी पृथ्वी पर मीथेन,नाइट्रस ऑक्साइड, कार्बन डाइऑक्साइड,और क्लोरोफ्लोरोकार्बन का उत्सर्जन बढ़ जाता है |
ये सभी ग्रीनहाउस गैसें हमारी पृथ्वी पर तापमान बहुत बढाती जा रही हैं | इसके अलावा हमारी पृथ्वी पर जलवायु परिवर्तन के और भी कारण हैं जैसे कि वनों की कटाई , ज्वालामुखी विस्फोट आदि |

Jalvayu parivartan का हमारी पृथ्वी पर प्रभाव

जलवायु परिवर्तन का प्रभाव हमारी पृथ्वी पर बहुत ज्यादा पड़ रहा है | इसकी वजह से हमारे सामने काफी तरह की समस्या आती जा रही हैं | इसकी वजह से हमारी पृथ्वी पर बहुत तरह के बदलाव आते जा रहे हैं जो इस प्रकार हैं - 

 तापमान पर प्रभाव-

जलवायु परिवर्तन की वजह से हमारी पृथ्वी पर तापमान में काफी बदलाव आते जा रहे हैं | हमारी पृथ्वी पर सर्दियां ख़त्म होती जा रही हैं और गर्मी बढ़ती जा रही है | इस बदलाव के कारण अब कभी भी बारिश हो जाती है जहाँ सूखा पड़ता था वहां बाढ़ आ रही है और कुछ इलाके ऐसे भी हैं जहाँ पानी की कोई कमी नहीं होती थी वहां सूखा पड़ रहा है |

वनों पर जलवायु परिवर्तन का प्रभाव -

जलवायु परिवर्तन का प्रभाव हमारे वनों पर भी बहुत ज्यादा पड़ रहा है इसकी वजह से हमारी पृथ्वी पर कई तरह की वनस्पति कई तरह के जीव जंतु विलुप्त होते जा रहे हैं |

समुद्री जलस्तर में बदलाव -

जलवायु परिवर्तन के कारण हमारी पृथ्वी पर समुद्री जलस्तर हर साल बढ़ता जा रहा है क्योकि जलवायु परिवर्तन की वजह से अंटार्टिका की बर्फ  पिघलती जा रही है और समुद्री जलस्तर बढ़ता जा रहा है |

खाद्यान्न समस्या तथा कृषि पर प्रभाव 

जलवायु परिवर्तन की वजह से हमारी कृषि पर भी काफी प्रभाव पड़ रहा है वे मौसम बरसात होने से फसलें ख़राब हो जाती है तथा खाद्यान्न समस्या उत्पन्न हो जाती है |

बीमारियों का बढ़ना 

जलवायु परिवर्तन की वजह से हमारी पृथ्वी पर हर साल बीमारियां बढ़ती जा रही हैं इसकी वजह से हर साल काफी लोग नयी नयी बीमारियों से ग्रसित होते जा रहे हैं |

Jalvayu Parivartan से निपटने की कोशिश -

जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए सरकारें अपनी तरफ से भी काफी कोशिश कर रही हैं पर इतना ही काफी नहीं है इसके लिए हम सबको  एक जुट होकर काम करना पड़ेगा और इस समस्या का समाधान ढूंढ़ना पड़ेगा |

Prabhat

About Prabhat -

Author Description here.

Subscribe to this Blog via Email :