Saturday, July 13, 2019

हाइड्रोपोनिक्स (Hydroponics) ..एक तरीका ....बिना मिट्टी के खेती करने का

हेलो दोस्तों, जैसा की आपलोग जानते हैं कि आज के समय में बढ़ती आबादी के कारण खेती के लिए जमीन कि कमी होती जा रही है और यह समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है । इस समस्या के समाधान के लिए एक नयी तकनीक आ चुकी है  जिसका नाम है हाइड्रोपोनिक्स (Hydroponics ) । इस आर्टिकल में हम आपको यह बताएंगे कि हाइड्रोपोनिक्स क्या है ? इस आर्टिकल में हम आपको हाइड्रोपोनिक्स से जुड़ी सारी जानकारी देंगे ।

 हाइड्रोपोनिक्स (Hydroponics) क्या है ?

 हाइड्रोपोनिक्स पौधे उगाने कि ऐसी तकनीक है जिसमे कि मिट्टी की आवश्यकता नहीं होती है । इस तकनीक में पौधों को पानी में उगाया जाता है । किसी भी पौधे के विकास के लिए जो सबसे ज्यादा जरुरी चीजें होती हैं वो हैं पोषक तत्त्व (nutrients), पानी (water), रोशनी (light), हवा(air) । अगर हम किसी पौधे को ये सभी चीजें दें तो कोई भी पौधा आसानी से विकास कर सकता है । हाइड्रोपोनिक्स में इसी तकनीक को लेकर चलते हैं इसमें मिट्टी की जरूरत नहीं होती है और सभी जरुरी पोषक तत्त्व पानी में मिला कर पौधों को दिए जाते हैं ।
पौधों के लिए जो सबसे जरुरी पोषक तत्त्व हैं वो हैं नाइट्रोजन (Nitrogen ), फॉस्फोरस (Phosphorus ), पोटाश (Potash ), मैग्नीशियम (Magnesium ), कैल्शियम (Calcium ), सल्फर (Sulphur ), जिंक (Zinc ), और आयरन (Iron ) ये सभी पोषक तत्व एक खास अनुपात के अनुसार पानी के जरिये पौधों को दे दिए जाते हैं ।


Hydroponics

हाइड्रोपोनिक्स का इस्तेमाल 
आज के समय में हाइड्रोपोनिक्स  का इस्तेमाल काफी जगहों पर हो रहा है । कई पश्चिमी देशों में फसल उत्पादन के लिए हाइड्रोपोनिक्स तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है यह तकनीक उन जगहों के लिए काफी फायदेमंद है जहाँ शुष्क क्षेत्र है वहां पर हम इस तकनीक के जरिये आसानी से पौधे उगा सकते हैं । आज के समय में कई शहरों में लोग अपने घरों की छत पर या फिर बिल्डिंग की छत पर इस तकनीक के जरिये पौधे उगा रहे हैं , इससे उगने वाली सब्जी बिलकुल शुद्ध होती है । अगर आप चाहे तो आप भी इस तकनीक से पौधे उगा सकते हैं ।

हाइड्रोपोनिक्स के लाभ 

१.  हाइड्रोपोनिक्स तकनीक से हम सब्जी बगैरह अपने घर पर ही उगा सकते हैं ।
२.  हाइड्रोपोनिक्स तकनीक से बहुत ही कम खर्च पर पौधे , फसलें और सब्जियां उगा सकते हैं ।
३.  इस तकनीक में पौधों के लिए जो जरुरी पोषक तत्त्व होते हैं उन्हें पानी में मिलकर दिए जाते हैं ।
४.  इस तकनीक में पानी भी कम खर्च होता है ।
५.  इस विधि से तैयार किये गए पेड़ पौधों का मिटटी या जमीन से कोई लेना देना नहीं होता है इसलिए इनमे              कीटनाशकों का प्रयोग नहीं करना पड़ता जिससे कि हमारी सब्जियां बहुत पौष्टिक रहती हैं ।
६.  इस तकनीक में बहुत कम जगह कि जरुरत होती है ।






Share on WhatsApp

No comments:

Post a Comment